शिवभक्त गुर्जर सम्राट मिहिरकुल हूण, पढिये शिवभक्त की कहानी !

शिवभक्त गुर्जर सम्राट मिहिरकुल हूण, पढिये शिवभक्त की कहानी !

गुर्जर सम्राट मिहिरकुल हूण एक कट्टर शैव था| उसने अपने शासन काल में हजारों शिव मंदिर बनवाये| मंदसोर अभिलेख के अनुसार यशोधर्मन से युद्ध होने से पूर्व उसने भगवान स्थाणु (शिव) के अलावा किसी अन्य के सामने अपना सर नहीं झुकाया था| मिहिरकुल हूण  ने ग्वालियर अभिलेख में भी अपने को शिव भक्त कहा हैं| मिहिरकुल हूण के सिक्कों पर जयतु वृष लिखा हैं जिसका अर्थ हैं- जय नंदी| वृष शिव कि सवारी हैं जिसका मिथकीय नाम नंदी हैं|

Mihir kul hun hoon gurjar gurjar history मिहिरकुल हूण गुर्जर हून गुर्जर इतिहास

कास्मोस इन्दिकप्लेस्तेस नामक एक यूनानी ने मिहिरकुल हूण  के समय भारत की यात्रा की थी, उसने “क्रिस्टचिँन टोपोग्राफी” नामक अपने ग्रन्थ में लिखा हैं की हूण गुर्जर भारत के उत्तरी पहाड़ी इलाको में रहते हैं, उनका राजा मिहिरकुल हुण विशाल घुड़सवार सेना और कम से कम दो हज़ार हाथियों के साथ चलता हैं, वह भारत का स्वामी हैं|मिहिरकुल के लगभग सौ वर्ष बाद चीनी बौद्ध तीर्थ यात्री हेन् सांग ६२९ इसवी में भारत आया , वह अपने ग्रन्थ “सी-यू-की” में लिखता हैं की सैंकडो वर्ष पहले मिहिरकुल हूण  नाम का राजा हुआ करता था जो स्यालकोट से भारत पर राज करता था | वह कहता हैं कि मिहिरकुल नैसर्गिक रूप से प्रतिभाशाली और बहादुर था|

हेन् सांग बताता हैं कि मिहिरकुल हूण  ने भारत में बौद्ध धर्म को बहुत भारी नुकसान पहुँचाया| वह कहता हैं कि एक बार मिहिरकुल हूण ने बौद्ध भिक्षुओं से बौद्ध धर्म के बारे में जानने कि इच्छा व्यक्त की| परन्तु बौद्ध भिक्षुओं ने उसका अपमान किया, उन्होंने उसके पास, किसी वरिष्ठ बौद्ध भिक्षु को भेजने की जगह एक सेवक को बौद्ध गुरु के रूप में भेज दिया| मिहिरकुल हूण को जब इस बात का पता चला तो वह गुस्से में आग-बबूला हो गया और उसने बौद्ध धर्म के विनाश कि राजाज्ञा जारी कर दी| उसने उत्तर भारत के सभी बौद्ध बौद्ध मठो को तुडवा दिया और भिक्षुओं का कत्ले-आम करा दिया| हेन् सांग कि अनुसार मिहिरकुल हूण ने उत्तर भारत से बौधों का नामो-निशान मिटा दिया|

Mihir kul hun hoon gurjar gurjar history मिहिरकुल हूण गुर्जर हून गुर्जर इतिहास

कल्हण ने बारहवी शताब्दी में“राजतरंगिणी” नामक ग्रन्थ में कश्मीर का इतिहास लिखा हैं| उसने मिहिरकुल हूण का, एक शक्तिशाली विजेता के रूप में ,चित्रण किया हैं| वह कहता हैं कि मिहिरकुल काल का दूसरा नाम था, वह पहाड से गिरते हुए हाथी कि चिंघाड से आनंदित होता था| उसके अनुसार मिहिरकुल ने हिमालय से लेकर लंका तक के इलाके जीत लिए थे| उसने कश्मीर में मिहिरपुर नामक नगर बसाया| कल्हण के अनुसार मिहिरकुल हूण ने कश्मीर में श्रीनगर के पास मिहिरेशवर नामक भव्य शिव मंदिर बनवाया था| उसने गांधार इलाके में ७०० ब्राह्मणों को अग्रहार (ग्राम) दान में दिए थे| कल्हण मिहिरकुल हूण को ब्राह्मणों के समर्थक शिव भक्त के रूप में प्रस्तुत करता हैं|

 

Mihir kul hun hoon gurjar gurjar history मिहिरकुल हूण गुर्जर हून गुर्जर इतिहास

 

मिहिरकुल हूण  ही नहीं वरन सभी हूण गुर्जर शिव भक्त थे| हनोल ,जौनसार –बावर,उत्तराखंड में स्थित महासु देवता (महादेव) का मंदिर हूण गुर्जर स्थापत्य शैली का शानदार नमूना हैं, कहा जाता हैं कि इसे हूण भट ने बनवाया था| यहाँ यह उल्लेखनीय हैं कि भट का अर्थ योद्धा होता हैं |

हाडा लोगों के आधिपत्य के कारण ही कोटा-बूंदी इलाका हाडौती कहलाता हैं राजस्थान का यह हाडौती सम्भाग कभी हूण गुर्जर प्रदेश कहलाता था| आज भी इस इलाके में हूणों गोत्र के गुर्जरों के अनेक गांव हैं| बूंदी इलाके में रामेश्वर महादेव, भीमलत और झर महादेव हूण गुर्जरो के बनवाये प्रसिद्ध शिव मंदिर हैं|

मिहिरकुल हूण mihir kul hun गुर्जर gurjar history इतिहास

बिजोलिया, चित्तोरगढ़ के समीप स्थित मैनाल कभी हूण गुर्जर राजा अन्गत्सी की राजधानी थी, जहा हूण गुर्जरो ने तिलस्वा महादेव का मंदिर बनवाया था| यह मंदिर आज भी पर्यटकों और श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित करता हैं| कर्नल टाड़ के अनुसार बडोली, कोटा में स्थित सुप्रसिद्ध शिव मंदिर पंवार/परमार वंश के हूणराज ने बनवायाथा|

इस प्रकार हम देखते हैं की हूण गुर्जर और उनका नेता मिहिरकुल हूण भारत में शैव धर्म के विकास से प्रत्यक्ष रूप से जुड़े हैं|

-डॉ सुशील भाटी

सन्दर्भ ग्रन्थ

1. K C Ojha, History of foreign rule in Ancient India, Allahbad, 1968.
2. Prameswarilal Gupta, Coins, New Delhi, 1969.
3. R C Majumdar, Ancient Iindia.
4. Rama Shankar Tripathi, History of Ancient India, Delhi, 1987.
5. Atreyi Biswas, The Political History of Hunas in India, Munshiram Manoharlal Publishers, 1973.
6. Upendera Thakur, The Hunas in India.
7. Tod, Annals and Antiquities of Rajasthan, vol.2
8. J M Campbell, The Gujar, Gazeteer of Bombay Presidency, vol.9, part.2, 1896
9. D R Bhandarkarkar Gurjaras, J B B R A S, Vol.21, 1903
10. Tod, Annals and Antiquities of Rajasthan, edit. William Crooke, Vol.1, Introduction
11. P C Bagchi, India and Central Asia, Calcutta, 1965
12. V A Smith, Earley History of India

ये भी पढ़े –

1857 क्रांति :भाला और कुल्हाड़ी लेकर गुर्जरी भिड गयी थी अंग्रेज सिपाहियों से!

महाबली जोगराज गुर्जर जिसने तैमूर की आधी सेना काट दी ! पढ़े भयंकर युद्ध की कहानी !

सूर्य उपासक गुर्जर सम्राट कनिष्क – डॉ सुशील भाटी की कलम से ! 

ब्रिगेडियर चांदपुरी- जब 120 जवानो के साथ 2000 पाक सैनिको को खदेड़ा और टैंक किये नष्ट !

” हिमालय के यायावर ” – पढ़िए वतन के कितने वफादार है ये गुर्जर !

गुर्जर बिहारी सिंह बागी : इंदिरा की जनसभा में शेर लाकर मैदान करा दिया था खाली!

 

Comments

comments

Gurjar Today is the ultimate resource for the Gurjars ,providing Gurjars around the world a platform to interact with the community and connect with our roots.

1 Comment

  1. […] ‘सावन की शिव रात्रि’ पर मनाई जाती हैं| मिहिकुल हूण एक कट्टर शैव था| मिहिरकुल को ग्वालियर […]

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *